Success Khan Logo

वर्ण एवं ध्वनि

Objective type Questions, Notes for Govt Exams, current affairs, general knowledge, hindi objective questions, English objective questions, Mathematics objective Questions, Reasoning Objective Questions, study material for IBPS, study material for banks, study material for SSC, study material for DSSSB, Aptitude objective type Questions, Solved Question papers, Notes, Study Material, general knowledge questions and answers, gk questions and answers, hindi questions and answers, English questions and answers , mathematics questions and answers, reasoning questions and answers, current affairs questions and answers, general knowledge questions and answers for competitive Exams, gk questions and answers for competitive Exams, hindi questions and answers for competitive Exams, English questions and answers for competitive Exams, Mathematics questions and answers for competitive Exams, reasoning questions and answers for competitive Exams, current affairs questions and answers for competitive Exams, Railway jobs, banking job, corporate jobs, government jobs, govt jobs, private jobs, CPO, PCS, RRB, CDS, UPSC,Notes, Online Tests, practice sets, questions and answers with explanation for competitive examination, entrance test, Railway, IBPS, SSC, DSSSB, PCS, Banking for hindi, english, mathematics, reasoning, gk, current affairs and many more.

वर्ण एवं ध्वनि

वर्ण – वर्ण उस मूल ध्वनि को कहते है , जिसके खंड या टुकड़े नहीं किये जा सकते | यह भाषा की सबसे छोटी इकाई है .

जैसे – अ, इ , ख, ग , र , इत्यादि | ये सभी वर्ण है , क्योकि इनके खंड नहीं किये जा सकते | उदाहरण द्वारा मूल ध्वनियों को यहाँ स्पष्ट किया जा सकता है | ‘ राम ‘ और ‘ गया ‘ में चार – चार मूल ध्वनियाँ है , जिनके खंड नहीं किए जा सकते — र + आ + म + अ = राम , ग + अ + य + आ = गया | इन्ही अखंड मूल ध्वनियों को वर्ण कहते है | हर वर्ण की अपनी लिपि होती है | लिपि को वर्ण – संकेत भी कहते है | वर्णों के समूह को वर्णमाला कहते हैं | हिंदी में कुल 48 वर्ण हैं , जो इस प्रकार हैं —


स्वर (11)– अ , आ , इ , ई , उ, ऊ , ऋ , ए , ऐ , ओ , औ – ग्यारह

व्यंजन (25) —
क , ख, ग , घ , ड (कवर्ग)
च , छ , ज , झ , ञ (चवर्ग)
ट , ठ , ड , ढ , ण (टवर्ग)
त , थ , द , ध , न (तवर्ग)
प , फ , ब , भ , म (पवर्ग)

य , र , ल , व (अंत:स्थ)
श , ष , स , ह (ऊष्म)
ड़ , ढ़

(.) अनुस्वार , (:) विसर्ग – अयोगवाह – 2

 

वर्णों के भेद : वर्णों के दो प्रकार हैं — (1) स्वर वर्ण और (2) व्यंजन वर्ण |

(1) स्वर वर्ण (Vowel) — ‘ स्वर ‘ उन वर्णों को कहते हैं | जिनका उच्चारण किसी दूसरे वर्ण की सहायता की बिना होता है | इसके उच्चारण में कंठ , तालु का उपयोग होता है , जीभ , होठ का नहीं |

ये दो प्रकार के होते है —
1 . मूल स्वर – अ , आ , इ , ई , उ , ऊ , ए , ओ , ऋ |
2. सयुंक्त स्वर – ऐ (अ + ए) और औ (अ+ओ)

मूल स्वर के दो भेद हैं — ह्रस्व और दीर्घ |
ह्रस्व स्वरों – अ , इ , उ , ऋ – के उच्चारणों में काम समय लगता हैं |
दीर्घ स्वरों – आ , ई , ऊ , ए , ऐ , ओ , औ – के उच्चारण में दुगुना समय लगता है |

 

(2) व्यंजन वर्ण (consonant) – ‘ व्यंजन ‘ उन वर्णों को कहते है , जिनके उच्चारण में स्वर वर्णों की सहायता ली जाती है | जैसे क , ख , ग , च , छ , त , थ , द , भ , म इत्यादि | ‘ क ‘ से विसर्ग (:) तक सभी वर्ण व्यंजन हैं | हरेक व्यंजन में ‘ अ ‘ (स्वर) की ध्वनि मिली या छिपी है | जैसे – ‘ क ‘ में क + अ , ‘ ग ‘ में ग + अ , ‘ ‘प ‘ में प + अ इत्यादि |

इसके तीन भेद है — 1 . स्पर्श , 2 . अंत:स्थ, 3 . ऊष्म |

स्पर्श व्यंजन कवर्ग , चवर्ग , टवर्ग , तवर्ग , पवर्ग हैं | अंत:स्थ व्यंजन चार हैं — य , र, ल , व |
ऊष्म व्यंजन भी चार हैं – श , ष, स , ह | इन सरे व्यंजनों को व्यंजन – गुच्छ के रूप में ऊपर दिखाया गया हैं |

वर्णों की मात्राएँ – व्यंजन वर्णों के उच्चारण में जिन स्वरमूलक चिन्हो का व्यव्हार होता है, उन्हें मात्राएँ कहते है | ये मात्राएँ दस है : जैसे — ा , ि, ी , ु, ू, ृ, े, ै, ो, ौ | ये मात्राएँ केवल व्यंजनों में लगती है; जैसे – का , कि , की , कु, कू ,कृ , के , कै, को , कौ इत्यादि | स्वर वर्णों की ही हृश्व -दीर्घ (छंद में लघु – गुरु ) मात्राएँ होती है , जो व्यंजनों में लगने पर उनकी मात्राएँ हो जाती है |
हाँ व्यंजनों में लगने पर स्वर उपर्युक्त दस रूपों के हो जाते है |

अनुस्वार और विसर्ग — ये दोनों व्यंजन है , क्योकि इनके उच्चारण में स्वर वर्ण मिला रहता है | जैसे — अ + : = अ: | ये ‘ अयोगवाह ‘ इसलिए है की ये स्वर के बाद , किन्तु स्वर से अलग (अयुक्त) लिखे या बोले जाते है | हिंदी में विसर्ग का व्यव्हार अधिकतर नहीं होता , कुछ ही स्वरों और स्वर वाले व्यंजनों में विसर्ग लगाया जाता है | जैसे — अ:, अत: , दु:ख इत्यादि |

ड़ और ढ़ ये हिंदी के दो अतिरिक्त टवर्गीय व्यंजन हैं | ये शब्द के शुरू में नही आते और इनका किसी व्यंजन से सयुंक्त रूप भी नहीं होता |

 

संयुक्त व्यंजन – संयुक्ताक्षर

क्ष , त्र , श्र , और ज्ञ – हिंदी में ये संयुक्त व्यंजन है | ये स्वतंत्र व्यंजन नहीं है , इसलिए हिंदी वर्णमाला में इन्हे प्राय: स्थान नहीं दिया गया जाता | बात यहाँ है कि इन व्यंजनों कि रचना में दो व्यंजनों का मेल है | जैसे – ‘ क ‘ और ‘ ष ‘ को मिलाकर क्ष की , ‘ त ‘ और ‘ र ‘ को मिलाकर त्र की , और ‘ श ‘ और ‘ र ‘ के मेल से ‘ श्र ‘ की और ‘ ज ‘ और ‘ ञ ‘ को मिलाकर ‘ ज्ञ ‘ की रचना हुई है | ये संयुक्त व्यंजन कहलाते है | संयुक्ताक्षर में दो या दो से अधिक व्यंजनों का मेल होता है और दोनों के बीच में स्वर नहीं होता रहता | जैसे — सत्य , उत्थान , उत्पन्न , ख्याति , कार्य , राष्ट्र इत्यादि |

हिंदी ध्वनियों के उच्चारण – स्थान

मुँह के जिस भाग से वर्णो को ध्वनियों का उच्चारण होता है उसे उच्चारण स्थान कहते है | इन उच्चारण स्थानों को इस प्रकार दिखाया जाता है –

FIGURE REQUIRES :

विशेष द्रष्टव्य – ‘ ण ‘ अनुनासिक मूर्धन्य वर्ण है जो ड़ की तरह शब्द के अंत में अत है | इसके कुछ अपवाद है , जैसे — परिणाम , प्रणाम आदि |

वर्ण माला में कुछ वर्ण ऐसे होते है जिनके उच्चारण में स्वरतंत्रीय परस्पर झंकृत होती है | जैसे — ग , ज, द , ब , य , र , ल ,व् , ह आदि — ये घोष ध्वनिया कहलाती हुई | अनुतान एक प्रकार की सुरलहर है , जो सभी घोष ध्वनियों में वर्तमान रहती है | उच्चारण में सुर अथवा तान के पीछे चलने वाली ध्वनि को अनुतान कहते है | इसे अर्थपरिवर्तन सुर भी कहा जाता है | जब हम बोलते है तब शब्द अथवा वाकया में सुरलहर होती है | ‘ अच्छा ‘ , ‘ बस ‘ , ‘ हाँ ‘ आदि शब्दों में अर्थ , प्रसंग और प्रयोग को उच्चारणगत भिन्नता रहती है |

Objective type Questions, Notes for Govt Exams, current affairs, general knowledge, hindi objective questions, English objective questions, Mathematics objective Questions, Reasoning Objective Questions, study material for IBPS, study material for banks, study material for SSC, study material for DSSSB, Aptitude objective type Questions, Solved Question papers, Notes, Study Material, general knowledge questions and answers, gk questions and answers, hindi questions and answers, English questions and answers , mathematics questions and answers, reasoning questions and answers, current affairs questions and answers, general knowledge questions and answers for competitive Exams, gk questions and answers for competitive Exams, hindi questions and answers for competitive Exams, English questions and answers for competitive Exams, Mathematics questions and answers for competitive Exams, reasoning questions and answers for competitive Exams, current affairs questions and answers for competitive Exams, Railway jobs, banking job, corporate jobs, government jobs, govt jobs, private jobs, CPO, PCS, RRB, CDS, UPSC,Notes, Online Tests, practice sets, questions and answers with explanation for competitive examination, entrance test, Railway, IBPS, SSC, DSSSB, PCS, Banking for hindi, english, mathematics, reasoning, gk, current affairs and many more.





Hindi Model Test Paper – 10
READ MORE

Hindi Model Test Paper – 10

74

Hindi Model Test Paper – 10
READ MORE

Hindi Model Test Paper – 10

19

Hindi Model Test Paper – 10
READ MORE

Hindi Model Test Paper – 10

18

Hindi Model Test Paper – 10
READ MORE

Hindi Model Test Paper – 10

13

Hindi Model Test Paper – 10
READ MORE

Hindi Model Test Paper – 10

8

Hindi Model Test Paper – 9
READ MORE

Hindi Model Test Paper – 9

15

Search


Explore